मेरा देश मेरी बात !

मेरा देश मेरी बात !

38 Posts

1127 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 18913 postid : 1139439

पाकिस्तान ही नहीं,अमेरिका की दोहरी चाल से भी बचना होगा देश वासियो!

Posted On: 16 Feb, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

क्या गल्त कहा था अमित शाह ने,कि अगर बिहार में भारतीय जनता पार्टी हारेगी तो जश्न पाकिस्तान में होगा? आज जो भी हो रहा है देश में, केवल और केवल प्रधानमंत्री मोदी की सरकार का तख्ता पलट की साज़िश ही तो हो रही है| क्या देश क्या विदेश सभी जगह षड्यंत्र रचे जा रहे हैं | साज़िश को मूर्त रूप देने की ग़र्ज़ से पाकिस्तान द्वारा देश विदेश से मदद ली जा रही होगी|| कैसे भारत को बर्बाद किया जाए, छोटे से छोटे पहलू पर विचार किया जा रहा होगा | योजनाएँ बनाई जा रही होंगी| कहीं न कहीं अमेरिका भी इस अभियान में शामिल है|
पिछले दो वर्षों से दुश्मन बहुत बारीकी से भारत की राजनीति पर नज़रें गड़ाए हुए है | दुश्मन का पूरा तंत्र भारत की राजनीति का अध्ययन करने में और कमज़ोर कड़ियाँ ढूँढने में लगा हुआ है| पहले भी रही हैं भारतीय जनता पार्टी की सरकार परंतु प्रधानमंत्री मोदी के जैसी सशक्त और प्रभावशाली शायद कभी नहीं | सरकार बनाने से पहले भी और सरकार बनाने के बाद भी ‘पाकिस्तान के हर दुराचरण और धूर्तता का मुँहतोड़ जवाब दिया जाएगा’,यही संदेश गया है विश्वभर में, इसलिए प्रधानमंत्री मोदी ही पाकिस्तान के गले की फाँस बने हुए हैं| दुश्मन की प्राथमिकता तो अब यही होगी कि पहले इससे निपटो बाकी बाद में देखा जाएगा| उसे मालूम है कि हाल ही चुनाव से पदच्युत ताकतें नहीं चाहेंगी कि मोदी पाँच वर्ष तक अपने पाँव जमा पाए| अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान अपनी हर नई पुरानी चालों का आंकलन करने में जुटा होगा|
80 के दशक तक पंजाब के रास्ते भारत की सीमा में घुसपैठ कर पाना बहुत आसान था | सबसे पहले पाकिस्तान ने पंजाब के देश भक्त युवा वर्ग को धर्म के नाम पर अपनी साज़िश का शिकार बनाया| कुछ खून बहा, पाकिस्तान ने कामयाब होने के जश्न भी मनाए, मगर जल्दी ही पंजाब, पाकिस्तान की कुटिल चाल समझ गया और पाकिस्तान के लिए दरवाज़े बंद कर दिए गये| अबकी बार पाकिस्तान ने मुस्लिम भाइयों को अपनी साज़िश का शिकार बनाने की रणनीति बनाई| निशाने पर हिंदू है कि मुसलमान उनका सरोकार नहीं, कोई भी हो भारतीय खून बहाना और देश में अशांति फैलाना ही दुश्मन का मकसद रहा है| जेहाद के नाम पर मुस्लिम युवा को जाल में फँसाया जाने लगा| कुछ हद तक सफल भी हुआ परंतु जल्दी ही भारतीय मुस्लिम समाज भी पाकिस्तान की चाल समझ गया| मुस्लिम समाज से बुद्दीजीवी वर्ग खुल कर पाकिस्तान के विरोध में उठ खड़ा हुआ| देश के कोने कोने से मुस्लिम युवाओं को आतंकवादी ताकतों से बच कर रहने की नसीहतें दी जाने लगी| मीडिया के माध्यम से मुस्लिम बुद्दीजीवी, युवाओं को, दुश्मन के बिछाए मायाजाल से दूर रहने का आग्रह करते हुए देखे जाने लगे |
अब पाकिस्तान की नई रणनीति
दुश्मन की यहाँ भी दाल नहीं गली तो एक नई रणनीति सामने आई कि हर कमजोर कड़ी को आजमाया जाए|हिंदू हो कि मुसलमान, जहाँ जहाँ जो जो बिकाऊ मिले उसे खरीद लिया जाए | कालेज़ और विश्विद्यालय, और न जाने कहाँ कहाँ, हऱ वो शॅक्स जो जो खरीदा जा सकता हो उस पर जाल फैंका गया होगा| JNU का कनहैया शायद इसी रणनीति का परिणाम हो| कह नहीं सकता, जो जो विपक्षी दल देश द्रोही नारे लगाने वाले छात्रों की पीठ थपथपा रहे हैं वे भी दुश्मन के किसी दबाव में हैं या उनके केवल राजनीतिक स्वार्थ हैं| अगर वे भी दुश्मन के दबाव में है तो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण समय है देश के लिए | ग़लत नहीं कहा गृहमंत्री जी ने कि JNU कांड लश्करे तैयबा की साज़िश है| हो सकता है दादरी कांड भी इसी साज़िश का हिस्सा हो| दुश्मन भारत की राजनीति से अच्छी तरह से वाकिफ़ है| देश में कुछ भी हो, अच्छा या बुरा, विरोध तो होना ही है| इसलिए विवाद पे विवाद खड़ा करने की साज़िश रची गई| हर उस कड़ी को निशाना बनाया जहाँ जहाँ उनकी पैन्ठ हो सकती थी| शाहरुख ख़ान, आमिर ख़ान, करण जोहर से विवादित ब्यान दिलवाए गये,शायद धमकी दी गई होगी, या लालच कि ऐसा कुछ कहो नहीं तो तुम्हारी फिल्में पाकिस्तान और हो सकता है दुबई और साऊदी अरब में भी नहीं चलने दी जाएँगी| वे जानते हैं कि ख्यातिप्राप्त व्यक्ति द्वारा कही गई बात का कितना असर होगा| विविधताओं भरे इस देश में विवाद उठेंगे, दंगे भड़केंगे, विश्व भारत में लगी आग का तमाशा देखेगा| कहीं हिंदू, कहीं मुसलमान मरेंगे| उन्हें ढिंढोरा पीटने का मौका मिल जाएगा क़ि मोदी के राज में भगवाकरण हो रहा है|
उपर से मित्र दिखने वाला अमेरिका भी पाकिस्तान की इस चाल में पूर्णतया शामिल है| मोदी की ख्याति ओबामा भी पचा नहीं पा रहा| पिछले दो वर्षों में जिस तरह से प्रधान मंत्री मोदी का विश्व भर में नाम हुआ है| विश्वस्तरीय हो कि देश से संबंधित, जिनके प्रत्येक कदम को देश विदेश दोनो जगह सराहा गया हो| जिनके प्रत्येक वक्तव्य की भूरी भूरी प्रशंसा की जा रही हो | विश्व के स्वयंभू आका अमेरिका के राष्ट्रपति को क्योंकर मंजूर हो कि भारत जैसे अविकसित देश के प्रधानमंत्री का कद उनके बराबर हो| प्रधानमंत्री मोदी उनके बराबर बैठें ये बात ओबामा के गले से उतरती नहीं शायद | लेकिन सीधे सीधे भारत का विरोध करने का मादा भी उसमें नहीं| प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष रूप से मोदी सरकार का तख्ता पलटने की साज़िश में अमेरिका भी शामिल है | साफ है कि दुश्मन का दुश्मन अपना दोस्त, वरना पाकिस्तान के बारे में सब कुछ जानते हुए अमेरिका, यूँ पाकिस्तान की खुले ख़ज़ाने से सहयता न करता| क्या अमेरिका ये नहीं जानता कि पाकिस्तान को विकास के नाम पर की गई मदद के रूप में दिया गया पैसा केवल और केवल आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए ही खर्च किया जा रहा है? केवल दिखावे के लिए हाफ़िज़ जैसे पाकिस्तानी आतंकी के सिर पर इनाम की घोषणा कर के अपना पल्ला झाड़ लिया है| उसे मालूम नहीं कि उसका अपराधी पाकिस्तानी संरक्षण में फल फूल रहा है? अगर अमेरिका पाकिस्तान की इतनी मदद न करे, तो क्या पाकिस्तान अपने देश में आतंकवाद की फसल उगा सकता है?
संभल के चल ऐ मेरे देश, भीतर बाहर दोनो ओर से आग लगाने के प्रयास युद्द स्तर पर किए जा रहे हैं| शहीदेआज़म अल्लामां इकबाल ये कह कर निराशा को आशा में बदल देते हैं:
कुछ बात है के हस्ती मिटती नहीं हमारी
सदियों रहा है दुश्मन दौरे ज़माँ हमारा ||
इसलिए हे मेरे देश, अब समय है सोच समझ कर कदम बढ़ाने का | अब समय है आपसी सौहार्द और भाईचारे का परिचय देते हुए दुश्मन की नापाक चालों का जवाब देने का, वरना वह खुद तो अपने देश की खुशहाली को निगल चुका है अब भारत देश पर उसकी बुरी नज़र है| जाग तो हम रहे हैं, आओ यथाशीघ्र उन देश द्रोही ताकतों के विरोध में उठ खड़े हों और दुश्मनों के नापाक इरादों को कुचल दें|
भगवान दास मेहंदी रत्ता [गुड़गाँव]



Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा
February 16, 2016

topic of the week



latest from jagran